Hair Astrology-बालों का ज्योतिष में क्या रहस्य है?

हस्तरेखा से देखना होगा भाग्य रेखा जो कि शनी की होती है उसमें जो बीच का स्थान गढा होता है वह राहु का होता है!
भूमि तत्व जितना स्ट्रांग होता है कुंडली में उतना ही बाल, नाखून और दांत अच्छे होते हैं जो कि धन समृद्धि व सुख से जुड़े हुए होते हैं !
लग्न में राहु होने पर केशों में ,रोम बहुल होते हैं जो कि हमें राक्षसों में भी दिखाई देते हैं सिर के बाल घने व काले होंगे और गुरु स्थानों में बालों का अधिक भी होगा।

सतोगुण युक्त व्यक्तियों में महात्मा ,संतो मैं दाढ़ी का बाल,लटे, बढें हुए दिखाई देते हैं चोटी रखने का कारण भी त्रिदोष पर विजय पाना ही होती है ।

बालों के लिए हमें लग्न,नैसर्गिक कारक सूर्य ,भूमि तत्व , मेष राशि और दो ग्रंथियों को समझना होगा पीनल और पिट्यूटरी ग्रंथि को इसके अनुसार ही हम बालों को अच्छे से जान सकते हैं!

बालों के प्रकार व ग्रहों से संबंध

सीधे बाल

सूर्य के कारण होते हैं ऐसे लोग सरल कोमल हृदय व्यक्तित्व और आत्मविश्वास के धनी होते हैं। इनका भाग्योदय 21 वर्ष में होता है अगर इनका सूर्य बिगड़ जाता है तो यह लोग तुनकमिजाज ,राहु सूर्य की युति ,सप्तम में सूर्य हो ,सूर्य के कारण पितदोष हो जाता है या कोई गलत औषधि लेने से भी गंजापन आ जाता है ,जहां सूर्य स्ट्रांग होता है वहां पर बाल कम होते हैं !
उपाय के रूप में सूर्य नमस्कार सूर्य को जल देना ,तांबे में जल पीना और सुर्य का लॉकेट धारण करना चाहिए.

पतले बाल

चंदमा के कारण ऐसे लोग संवेदनशील,खुशमिजाज,चमकीली आँखे होती है.
बचपन से सिल्वर स्पून भाग्य के धनी होते है! चंद्रमा अगर राहु केतु या शनि के साथ हो तो अवसाद या हीन भावना आ जाती है जिसके कारण की रूसी और बाल सफेद होने लगते हैं कफ भी बिगड़ जाता है और इसका असर बालों पर बहुत तेजी से होता है क्योंकि बालों का कारण चंद्रमा होता है

उपाय चंद्रमा के कारण बालों के लिए हारमोंस ट्रीटमेंट लेना चाहिए ,नींबू नारियल का तेल और कपूर का उपयोग बालों में करना चाहिए ।कफ बिगड़ने के कारण चूड़ामणि देवी की अराधना करना चाहिए

बाल और ज्योतिष

मोटे बाल

ऐसे बालों का रक्त संचार बहुत अच्छा होता है और मंगल ग्रह के कारण होते हैं ,इनमें ऊर्जा की अधिकता होती है। गर्भाशय से ही इनके बालों पर प्रभाव होता है अगर कुंडली में रूचक योग है तो 27 वर्ष के बाद ज्यादातर लोग का भाग्योदय होता है। पित्त बढ़ने पर या गुस्से में, सिरदर्द, वाद-विवाद में ,असंभव को संभव करने की ताकत रखते हैं ऐसे लोगो के अचानक बाल झड़ने लगते हैं कभी-कभी मंगल कमजोर होने पर खून की कमी से भी बाल झड़ते हैं ।

उपाय इसके लिए विटामिन सी, आवला,संतरा नींबू खीरा ले और बालों में मालिश प्राकृतिक तेलों से बादाम अखरोट आदि से करना चाहिए ,तांबे का उपयोग भी किया जा सकता है ।

Read Also-महिलाओं की बायीं आँख फड़कने का ज्योतिष में वजह

लहराते बाल

यह महफिल की जान होते हैं, ऐसे व्यक्ति विनम्र और दयालु, विशेष कला के धनी होते हैं। कुंडली में भद्र योग होने पर इनके बाल बहुत सुंदर होते हैं विशेषकर तंतुओं पर इनका प्रभाव होता है और बालों से विशेष प्रकार की खुशबू भी आती है ।इनका आई क्यू लेवल अच्छा होता है ।अगर बुध त्रिदोष आ जाए तो ,राहु बुध राहु के साथ चर्म रोग ,सिरोसिस ,थायराइड ,चंद्रमा बुध के कारण दाद खाज ,शनि बुध के कारण से भी बालों में अचानक छडना देखा जा सकता है ।

उपाय इसके लिए विटामिन ई लेना चाहिए ।साथ विटामिन बी ,बायोटिन बीसिक्स, भी ली जा सकती है लंबे बाल $
यह गुरू तत्व के कारण होता है ऐसे व्यक्ति बड़े, वृद्धि शुभकारक ,सौम्य व्यक्तित्व और समाज में उनका सम्मान होता है ।ऐसी कुंडली जिनमें हंस योग हो बाल बहुत लंबे होते हैं ।अगर लीवर मोटापा या किसी की नहीं सुनते हैं तो आप देखेंगे इनके बाल झड़ने लगते हैं ।और यह लोगो के भाग्य की प्रसिद्धि का होता है ।

उपाय ऐसे लोगों को हल्दी का प्रयोग स्नान में करना चाहिए, प्रोटीन का प्रयोग बहुत जरूरी है, अलसी का पेस्ट बनाकर या खाने में उपयोग करना चाहिए!

चमकीले बाल

ऐसे लोगों का शुक्र ग्रह बहुत अच्छा होता है अगर चंद्रमा की दृष्टि हो तो बाल घुंघराले नीचे से हो जाते हैं इसमें हार्मोन सबसे अच्छा होता है! यह लोग नई नई स्टाइल के भी बालों में नवीनता लाते हैं, अगर हारमोंस खराब हो जाए तो दिक्कत होती है, ऐसे लोगों के बाल से इनका अट्रैक्शन आकर्षण बहुत ज्यादा होता है इन्हें अचानक उच्च प्रसिद्धि प्राप्त होती है ।

अगर शुक्र मंगल से या राहु से या किसी नकारात्मक ग्रह से प्रभावित हो तो या शुक्र का बल कमजोर हो तो बाल बहुत तेजी से झड़ जाते हैं और अगर यह अपनी इच्छाओं का दमन करते हैं तो भी बालों का झड़ना देखा जा सकता है ।

उपाय इसके लिए पार्वती देवी की अराधना करना चाहिए। खाने में हारमोंस के मल्टीविटामिंस भी लेना चाहिए। मैग्नीशियम और लोहे के पात्र में सिरका मिलाकर आंवला और गुडहल के फूल आदि का पेस्ट सिर में लगाना चाहिए।

घने बाल

शनि के कारण होते हैं ऐसे लोगों को शश महापुरुष योग होता है ,ऐसे लोगों के बाल कम बढ़ते हैं पर बहुत घने होते हैं ,क्योंकि बहुत मेहनत और थकान के कारण बालों की वृद्धि धीरे-धीरे होती है। ऐसे लोगों का 32 से 40 वर्ष के बीच में भाग्योदय देखा जा सकता है। बालों के आधार पर उन लोगों को मेहनत के कारण ज्यादा पसीना आने से बाल झड़ने लगते हैं ।

राहु और चंद्र से शनि का कुंडली में योग बनने पर कम उम्र में सफेद बाल होने के कारण होता है, कमजोरी मानसिक अवसाद ,गठिया ,श्वास रोग में ज्यादातर शनि के कारण बाल झड़ने लगते हैं।

उपाय इसके लिए हारमोंस ट्रीटमेंट के साथ ही अलसी का उपयोग ओमेगा 3 फैटी एसिड और खनिज ,मैगजीन जिनका उपयोग करना चाहिए जो कि एंटीऑक्सीडेंट होता है कपूर का उपयोग बालों में करना चाहिए । सूर्यमुखी के बीजों का प्रयोग कालेपन भी किया जा सकता है ,तिल का तेल सबसे अच्छा मैगनीज का कारक होता है जो शनि के कारण बाल को झड़ने रोकने में सहायक होता है।

घुघंराले बाल और घने बाल

दोनों देखे जा सकते हैं राहु के कारण जैसा कि राहु बालों का कारक है, ऐसा व्यक्ति जोशीला शीघ्र क्रोधी , तीखी दृष्टि और कई दुष्कर कार्य करने वाला होता है। ऐसे लोगों के बाल काफी घुंघराले भी होते हैं और कई बार उर्ड़े बाल भी देखे जा सकते हैं। जून माह के बच्चों में यह ज्यादा योग देखा जा सकता है।

जबकि सूर्य राहु या नक्षत्र पर हो बैक्टीरिया इन्फेक्शन के कारण से राहु वाले लोगों का बाल झड़ते हैं इन लोगों का भाग्योदय 36 साल के बाद होता है ।

उपाय सल्फर का उपयोग बहुत महत्वपूर्ण होता है। ऐसे लोगों को देवी के मंत्रों का जाप कर सकते हैं। खुले धूप में बाल नहीं रखना चाहिए इसके लिए आम की गुठली और आंवले का रस मिलाकर बालों में लगाना चाहिए अगर बेजान बाल हो रहे हो तो गाजर आदि का उपयोग करना चाहिए ।

जड़ से इस रोग को ठीक करना चाहिए ऐसे लोगों को सिरोसिस रोग भी हो सकता है। नारियल के की जटा को जलाकर उसका लेप बनाकर नारियल के तेल के साथ उपयोग करने से बाल नहीं झड़ते हैं। अगर राहु किसी कारण से भी खराब हो गया तो कई बार लोग पूरे गंजे हो जाते हैं इसलिए बहुत ध्यान रखना होता है खानपान या अनुवांशिक कारण है तो हमें जींस थैरपी यूज़ करना चाहिए।

सफेद बाल

ऐसे बाल बहुत ज्यादा उम्र में होते हैं वह केतु के कारण होते हैं ऐसे लोगों का भाग्य 48 वर्ष के बाद उदय होता है ।खड़े हुए गोल्डन ग्रे कलर के भी होते हैं ।अचानक बाल झड़ने का कारण विषाणु होते हैं जैसे कि टाइफाइड आदि में बाल बहुत तेजी से झड़ जाते हैं ऐसे लोगों का पित्त बहुत तेजी से बिगड़ जाता है।

उपाय इसके लिए आरबीसी या एमिनो एसिड का उपयोग ज्यादा करना चाहिए ।केला आलू गोभी अलसी आदि का प्रयोग करना चाहिए। देवी की अराधना करना चाहिए ।ऐसे लोगों को बाल हाइड्रोजन पराक्साइड से काले नहीं करना चाहिए क्योंकि भाग्य में भी रुकावट आती है इसलिए जिनके वृद्धावस्था में बाल सफेद हो रहे हैं उनके ऊपर केतु ग्रह का शुभ प्रभाव होता है।

1 thought on “Hair Astrology-बालों का ज्योतिष में क्या रहस्य है?”

Leave a Comment